sikh places, gurudwara

गुरुद्वारा श्री लोहगढ़ साहिब अमृतसर

अमृतसर शहर में कुल 13 दरवाजे हैं। लोहगढ़ किला लोहगढ़ गेट के अंदर स्थित है। तत्कालीन मुगल सरकार पर्याप्त अत्याचारी एवं भ्रष्ट थी। लेकिन गुरु साहिब ने सिख पंथ को सम्मान और भाईचारे के साथ जीवन जीने की शिक्षा दी थी।
आपने अधर्मी शासकों को नष्ट करने के लिए मीरी-पीरी की दो तलवारें धारण कीं। श्री अकाल तख्त साहिब का निर्माण किया, सेना और सशस्त्र सिख पंथ को रखा। ऐसी स्थिति को देखते हुए वर्ष 1618 में सिख धर्म का पहला किला लोहगढ़ बनवाया गया। 8 नवंबर 1627 को जहांगीर की मृत्यु के बाद बादशाह गद्दी पर बैठे। 18 मई 1629 को उनकी शादी का दिन था। श्री हरगोविंद साहब की पुत्री बीबी वीरो। उन्हीं दिनों लाहौर शहर का सूबेदार शिकार के बहाने अमृतसर से 12 किमी दूर रामतीर्थ मार्ग पर स्थित कोहाला गाँव में आया। बाज का बहाना बनाकर मुखलिस खान ने भारी सेना के साथ शहर पर हमला किया और खूब लूटपाट की, लेकिन गुरु साहिब ने अपनी बेटी की शादी करने के लिए अपने परिवार को झाबल गांव भेज दिया।
विवाह संस्कार आदि से मुक्त होकर उन्होंने शत्रु सेना को मुंहतोड़ जवाब दिया। कोहाला गांव से लेकर खालसा कॉलेज, पिपली साहिब और लोहगढ़ तक रणक्षेत्र बन गया। पांडेखान और भाई बिधि चंद ने मुखलिस की हत्या कर दी। गुरू साहिब की विजय हुई। यह भारतीय इतिहास में खालसा का पहला युद्ध था, जिसके उदाहरण से हतोत्साहित सिख समुदाय को शक्ति और साहस मिला। युद्ध की समाप्ति के बाद विवाह की अन्य रस्में पूरी की गईं। गुरु हरगोविंद सिंह जी ने लोहगढ़ के किले में बेरी के पेड़ की लकड़ी में एक छेद किया और उसमें बारूद भरकर उसे तोप की तरह दागा। यह खालसा का पहला किला और बेरी के पेड़ की पहली तोप है, जो आज भी इस स्थान पर मौजूद है।

भारत के पंजाब राज्य के अमृतसर में गुरुद्वारा किला श्री लोहगढ़ साहिब तक पहुँचने के लिए, आप इन सामान्य निर्देशों का पालन कर सकते हैं:

हवाई मार्ग द्वारा: निकटतम हवाई अड्डा अमृतसर में श्री गुरु राम दास जी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा है। हवाई अड्डे से, आप गुरुद्वारा किला श्री लोहगढ़ साहिब तक पहुंचने के लिए टैक्सी किराए पर ले सकते हैं या सवारी-साझाकरण सेवा का उपयोग कर सकते हैं। दूरी लगभग 13-15 किलोमीटर है, और यातायात के आधार पर यात्रा में लगभग 30-40 मिनट लगेंगे।

ट्रेन द्वारा: निकटतम रेलवे स्टेशन अमृतसर जंक्शन या अमृतसर रेलवे स्टेशन है। रेलवे स्टेशन से, आप गुरुद्वारा किला श्री लोहगढ़ साहिब तक पहुंचने के लिए टैक्सी, ऑटो-रिक्शा किराए पर ले सकते हैं या सवारी-साझाकरण सेवा का उपयोग कर सकते हैं। दूरी लगभग 3-4 किलोमीटर है, और यातायात के आधार पर यात्रा में लगभग 10-15 मिनट लगेंगे।

बस द्वारा: अमृतसर में स्थानीय बस प्रणाली है। आप लोहगढ़ गेट या गुरुद्वारा किला श्री लोहगढ़ साहिब के पास से गुजरने वाले बस मार्ग के बारे में पूछताछ कर सकते हैं। वैकल्पिक रूप से, आप अमृतसर के लिए लंबी दूरी की बस ले सकते हैं और फिर गुरुद्वारा तक पहुंचने के लिए टैक्सी, ऑटो-रिक्शा या अन्य स्थानीय परिवहन का उपयोग कर सकते हैं।

कार/टैक्सी द्वारा: यदि आप गाड़ी चला रहे हैं, तो Google मैप्स या ऐप्पल मैप्स जैसे नेविगेशन ऐप का उपयोग करें। अपने गंतव्य के रूप में “गुरुद्वारा किला श्री लोहगढ़ साहिब, लोहगढ़ गेट, पुराना शहर, अमृतसर, पंजाब” दर्ज करें। ऐप वर्तमान ट्रैफ़िक स्थितियों के आधार पर सर्वोत्तम मार्ग प्रदान करेगा।

स्थानीय परिवहन: एक बार जब आप लोहगढ़ गेट के आसपास पहुंच जाते हैं, तो आप गुरुद्वारा किला श्री लोहगढ़ साहिब तक पहुंचने के लिए ऑटो-रिक्शा या साइकिल रिक्शा जैसे स्थानीय परिवहन का उपयोग कर सकते हैं। यात्रा शुरू करने से पहले ड्राइवर से किराये की पुष्टि कर लें।

हमेशा अपने शुरुआती बिंदु और वर्तमान परिस्थितियों के आधार पर परिवहन के निर्देशों और मोड की पुष्टि करें। गुरुद्वारा किला श्री लोहगढ़ साहिब जैसे धार्मिक स्थलों पर जाते समय सम्मानपूर्वक कपड़े पहनने और किसी भी रीति-रिवाज या परंपरा का पालन करने की सलाह दी जाती है।

अन्य नजदीकी गुरुद्वारे

अन्य गुरुद्वारे